क्षणिक ischemic हमलों

0
6066

परिभाषा :

Un accident ischémique transitoire » AIT” est un episode brèf de dysfonctionnement neurologique dû à une ischémie focale cérébrale ou rétinienne, dont les symptômes cliniques durent typiquement moins d’एक बजे, sans preuve dinfarctus aigu.

महामारी विज्ञान :

– स्पष्ट करने के लिए मुश्किल प्रसार
Les facteurs de risque sont les mêmes que ceux dun infarctus cérébral (AIC अंडा)
– दोनों लिंगों मामूली पुरुष प्रबलता के साथ प्रभावित कर रहे हैं.
– गैर-परिवर्तनीय जोखिम कारकों :
* उन्नत उम्र
* पुरुष।(हमारे popultion में महिला अधिक चिंतित)
– परिवर्तनीय जोखिम कारकों :
* HTA : आर आर = 4 4.4 "की 5 को 10 डीबीपी mmHg 0 की 40% जोखिम '.
"0 5 को 6 mmHg डीबीपी 42% स्ट्रोक.
* मधुमेह : आर आर = 1.5 को 2.
* मन्या एक प्रकार का रोग : le risque dAIT et dAVC augmente avec le degré de la sténose
* एल’épaisseur intima media des carotides avec un RR = 3.5
* इस्कीमिक हृदय रोग : आर आर = 2 को 4
* एसी / एफए : आर आर = 4 को 5
– Hypercholestérolémies: आर आर = 1.3 को 2.9
– तंबाकू: आर आर = 1.5 को 1.9
– Hyperhomocystéinémie : आर आर = 1.82 , या = 2.3 के लिए [ ] > 12.1 μmol / एल
– मौखिक गर्भ निरोधकों : RR dIC de 2,75 जोखिम बनी रहती है(आरआर : 1,93) कम खुराक की गोलियाँ के लिए
– फाइब्रिनोजेन: प्लाज्मा के साथ आर आर
– खर्राटों: आर आर = 1.6
– मोटापा: आर आर = 2
– आभा के साथ माइग्रेन "या = 5 »
– आहार कार्बोहाइड्रेट और वसा और सोडियम में अमीर(par lintermédiaire de la PA)
Antécédents d’एवीसी
– एल’inflammation est un facteur de risque de l’atherosclerosis
– एल’infection pourrait jouer un rôle (क्लैमाइडिया निमोनिया , हेलिकोबेक्टर मैं सीएमवी हूँ)

सुरक्षात्मक कारक :

  • Une activité physique régulière démarrée au début de lâge adulte et poursuivie toute la vie
  • हरे फल और सब्जी की खपत, de même que celle des céréales et lOde la consommation de K+ ou de Mg+ 0 0 du risque dinfarctus cérébral
  • एल’alcool à faibles doses

सकारात्मक निदान :

वहाँ नैदानिक ​​और रेडियोलॉजिकल है

चिकित्सकीय :

– एल’interrogatoire est souvent loutil majeur avec dans certains circonstances l’शारीरिक जांच.
– का निदान’AIT est un diagnostic clinique rétrospectif,qui repose initialemment sur linterrogatoire approfondi du patient et de son entourage
La sémiologie clinique est variable selon la topographie de lischémie cérébrale

Symptômes dAIT probable : आसान स्थापना, 2 मिनट से कम में आम तौर पर, की’un ou de plusieurs des symptômes suivants :

1- Symptômes évocateurs dun AIT carotidien :
– नेत्री अंधापन ;
– बोली बंद होना ;
– मोटर विकारों और / या एकतरफा संवेदी छू चेहरा और / या सदस्यों.

2- Symptômes évocateurs dun AIT vertébro-basilaire :
Troubles moteurs et/ou sensitifs bilatéraux ou à bascule dun épisode à l’अन्य ; चेहरे और / या सदस्यों को छू ;
– नाम रखने वाले hemianopia (HLH) या cortical अंधापन

Symptômes dits «dAITpossibles» : sont compatibles avec le diagnostic d’AIT.
मगर, रों’ils sont isolés, ils doivent faire évoquer en première intention dautres diagnostics.

दूसरी ओर, si ces symptômes sassocient entre eux ou aux symptômes précédement cités, या तो समन्वित रूप से या क्रमिक रूप से, alors lAIT doit être considéré comme probable. Symptômes dAIT possible :

  • vertige et perte d’संतुलन ;
  • symptômes sensitifs isolés ne touchant qu’का हिस्सा’un membre ou quunehémiface ;
  • diplopie ;
  • dysarthrie ;
  • निगलने विकारों ;
  • ड्रॉप-हमले

Recherche de l’ज्येष्ठता (दिनांक और समय यदि संभव हो तो) और लक्षणों की अवधि

La durée des symptômes est un élément indicatif important pour porter le diagnostic dAIT car dans la plupart des cas les symptômes sont de courte durée .

Dans la definition actuelle les signes et symptômes doivent regressés en moins d’एक बजे. Confirmation à lexamen clinique de la disparition des troubles neurologiques.

फोकल घाटा की पूरी प्रतिगमन विशेष रूप से महत्वपूर्ण संकेत है, car sil persiste des signes neurologiques à l’समीक्षा,

रोगी के लिए विचार किया जाना चाहिए, ऊपर’à preuve du contraire, एक स्ट्रोक से मिलकर.

अस्पताल की देखभाल, यदि संभव हो तो न्यूरो संवहनी यूनिट में (UNV), doit alors être la plus rapide possible afin de préserver les chances du patient de bénéficier d’फिब्रिनोल्य्सिस

ब्रेन इमेजिंग :

एल’imagerie cérébrale étant donc nécessaire au diagnostic positif d’AIT.

वसूली’une imagerie cérébrale, अधिमानतः एक प्रसार IRAA (कम से कम), est nécessaire au diagnostic afin de s’सुनिश्चित’अभाव घ’infarctus cérébral, नई परिभाषा के तहत आवश्यक कसौटी

La TDM ou lIRM sont normaux ou ne retrouvant pas de signe dinfarctus cérébral expliquant la symptomatologie actuelle

यह भी कुछ विभेदक निदान को खत्म करने में मदद करता है, पहला और सबसे महत्वपूर्ण intracranial खून बह रहा है

विभेदक निदान :

मस्तिष्क संबंधी बीमारियों :

आभा के साथ माइग्रेन, फोकल बरामदगी : ब्रेन ट्यूमर, सेरेब्रल संवहनी विरूपताओं, अवदृढ़तानिकी रक्तगुल्म, मस्तिष्क रक्तस्राव, मल्टिपल स्क्लेरोसिस. क्षणिक वैश्विक भूलने की बीमारी ग्रैविस, आवधिक पक्षाघात, narcolepsy.

गैर मस्तिष्क संबंधी बीमारियों :

चयापचय संबंधी विकार (हाइपोग्लाइसीमिया सहित) चक्कर आना कारण ईएनटी (Meniere रोग, बेनिन कंपकंपी स्थितीय सिर का चक्कर, कर्ण कोटर न्युरैटिस) बेहोशी ; हाइपोटेंशन orthostatique ; syndrome d’अतिवातायनता ; (spamophilie) हिस्टीरिया, सिमुलेशन ; मनोदैहिक विकारों.

क्षणिक नेत्री अंधापन के मामले में :

अंधता तीव्र घातक उच्च रक्तचाप से संबंधित मोतियाबिंद रेटिना के केंद्रीय नस की उच्च रक्तचाप intracranial घनास्त्रता ऑप्टिक न्युरैटिस पश्चनेत्रगोलकीय रेटिना टुकड़ी

etiological संतुलन :

प्रयोगशाला परीक्षण : बनाम. सीआरपी, शर्करा, लिपिड, FNS,एफआर, टी.पी.,INR,…. शेष राशि अनुसार संदर्भ
कार्डियक मूल्यांकन : ईसीजी, echocardiogramme, डॉपलर चड्डी सुप्रा महाधमनी, होल्टर, ETO,…
एंजी टीडीएम गोलार्द्धों. एआरएम

etiologies :

atherosclerosis
छोटे वाहिका रोग / अंतराल
noninflammatory वाहिकारुग्णता
+ विच्छेदन
+ धमनी dysplasia
दिल emboligenic
रक्त का कारण बनता है: Polyglobulies,
सिकल सेल,Thrombocytémieessentielle,लेकिमिया
अन्य कारणों:दवाओं, दवाइयों, एंजियोग्राफी, प्रणालीगत हाइपोटेंशन,…

प्रबंधन :

AIT का प्रबंधन भी जरूरी है, देखना है कि 10% घ’entre eux présentent un AVC dans les 48 घंटे. एल’accès immédiat à limagerie est facilité par le contact pré-hospitalier et une bonne communication avec le service de radiologie: les UNV doivent travailler étroitement avec le service de radiologie afin dutiliser au mieux leurs disponibilités LAIT necéssitetoujour un bilan étiologique exhaustive à la phase aigue pour faire une prevention primaire éfficace en traitant la cause.

उपचार :

यह n’y a pas stricto sensu de traitement de l’AIT. Le but de la prise en charge initiale est dinstaurer au plus vite un traitement par aspirine afin déviter la survenue dun AVC.

यह s’agit en réalité dun traitement anti-thrombotique préventif.

उपचार तो अनुकूलित किया जाएगा, तुरंत, को’étiologie suspectée de l’AIT, etiologic के परिणामों पर आधारित

Traitement par aspirine en urgence et en labsence de contre-indication prouvée.
160-300mg लोड हो रहा है खुराक

Cours du Pr B.S FERKAOUI – Constantine के संकाय